Wednesday, November 30, 2022
More

    रेलवे का नया फ़रमान, जिंदा लाश बन जाए छात्र, आंदोलन करेंगे तो नहीं मिलेगी नौकरी

    पटना, बिहार: बिहार में बहार है, डबल इंजन की सरकार है। पिछले बिहार विधानसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी से लेकर तमाम बड़े नेताओं ने युवाओं को नौकरी देने का वादा किया था। चुनाव के समय युवाओं को जॉब देने वालों की फेहरिस्त काफी लंबी थी। लेकिन विडंबना यह है कि उनमें से इस वक्त छात्रों के लिए कोई भी खड़ा नहीं दिख रहा है। पांच राज्यों में होने वाले चुनाव होने वाले हैं।वहां के छात्र बिहार के छात्रों को देखे और चुनावी वायदे याद कर के ही अपने राज्यों में वोट दें।

    पिछले बिहार विधानसभा चुनाव में भी छात्रों ने इसी तरह परीक्षा कराने के लिए आंदोलन किया था।लेकिन तब भी उन्हें सिर्फ आश्वासन ही मिला। एक बार फिर बिहार के छात्र सड़कों पर उतर आए हैं। अपनी मांग को लेकर छात्रों ने ट्रेन और पटरियों को पूरी तरह से बंद कर दिया। जिसके बाद कई ट्रेनों का रूट बदलना पड़ा। उनकी बस एक ही मांग है कि पहले से तय नियम के अनुसार ही परीक्षा ली जाए। लेकिन ना तो इन छात्रों की सरकार सुन रही है और ना ही विपक्ष।
    छात्र आंदोलन को खत्म करने के लिए छात्रों पर आंसू गैस और लाठियां बरसाई जा रही है। आज भी कई जिलों में छात्रों का आंदोलन देखने को मिला है जिसके बाद छात्र आंदोलन को दबाने के लिए रेलवे ने नया पैंतरा अपनाया है।

    रेलवे ने फरमान जारी कर कहा कि जो भी छात्र आंदोलन कर रहे हैं उनको रेलवे में नौकरी नहीं मिलेगी। रेलवे ने नोटिस जारी कर कहा कि जो भी छात्र गैरकानूनी गतिविधियों में पाए जाएंगे उन्हें आजीवन रेलवे में नौकरी नहीं मिलेगी अब सोचिए कि यह सरकार कितनी निकम्मी है। 2019 में ही निकले हुए 1 लाख वैकेंसी की अब तक परीक्षा नहीं हुई है। 3 साल से 1.25 करोड़ छात्र परीक्षा के बाद नौकरी की आस में बैठे हैं। लेकिन निकम्मी सरकार तय सीमा पर परीक्षा भी नहीं ले पा रही है। मतलब कि आप बस एक जिंदा लाश की तरह सब कुछ सुनते और करते जाएं। आपको कोई हक नहीं है कि आप अपने भले के लिए सरकार से सवाल करें।

    क्या है मामला

    सोमवार दोपहर को पटना के राजेंद्र नगर टर्मिनल रेलवे स्टेशन पर हजारों की संख्या में छात्र जमा हो गए।उनकी मांग थी कि रेलवे की एनटीपीसी परीक्षा के रिजल्ट में पारदर्शिता बरती जाए।रेलवे ने सोमवार को नोटिस जारी कर कहा कि ग्रुप डी की परीक्षा एक नहीं बल्कि दो एग्जाम के तहत ली जाएगी। छात्रों का कहना है कि फरवरी 2019 में ही उन्होंने फॉर्म भरा था। उस वक्त रेलवे ने सितंबर 2019 में परीक्षा लेने की बात कही थी। लेकिन तय समय पर परीक्षा नहीं हुई । फिर डिपार्टमेंट ने दिसंबर 2021 में छात्रों को बताया था कि सीबीटी की परीक्षा 23 फरवरी 2022 से शुरू होगी।अब अचानक सोमवार को रेलवे ने नोटिस जारी कर कहा कि ग्रुप डी की एक परीक्षा नहीं बल्कि दो-दो परीक्षा होगी।

    छात्रों का आरोप है कि पहले से ही एग्जाम होने में इतनी देरी हो रही है।और अगर दो परीक्षा आयोजित किए जाते हैं तो दो-तीन साल और लग जाएंगी। छात्रों का आरोप है कि रेलवे एनटीपीसी की परीक्षा दिसंबर 2020 से अप्रैल 2021 में हुई थी। बोर्ड ने कहा था कि पीटी का रिजल्ट 20 गुना ज्यादा दिया जाएगा। नोटिफिकेशन के आधार पर रेलवे अपने ही पूर्व घोषणा पर खरा नहीं उतरा है। छात्रों की मांग है कि ग्रुप डी की नोटिफिकेशन को वापस लिया जाए और एनटीपीसी रिजल्ट को फिर से रिवाइज किया जाए।जिसके बाद पटना पुलिस ने छात्र आंदोलन को बंद कराने के लिए लाठीचार्ज शुरू कर दिया।

    अब सोचिए कि रेलवे कितनी निकम्मी है। रेलवे ने ग्रुप डी के लिए 2019 में ही वैकेंसी निकाली थी। बेरोजगारी का यह आलम रहा कि 1 लाख वैकेंसी पर सवा करोड़ बेरोजगार छात्रों ने फॉर्म भरा। 3 साल गुजर जाने के बाद भी अब तक रेलवे और सरकार परीक्षा नहीं करवा पाई। 3 साल से 1.25 करोड़ बेरोजगार छात्र परीक्षा देने की तैयारी कर रहे थे। और एक महीना पहले रेलवे नोटिफिकेशन जारी करके कहती है कि छात्रों को दो-दो परीक्षा देनी होगी ।
    अब हाल यह है कि पटना से शुरू हुए छात्र आंदोलन बिहार के अलग-अलग जिलों में देखने को मिल रहे हैं। आरा,बक्सर,नालंदा,फतुहा समेत कई जिलों में छात्रों का आंदोलन देखने को मिल रहा है। इधर पटना जिला प्रशासन भी छात्र आंदोलन पर नकेल कसने की कोशिश कर रही है।

    बिहार के जाने-माने शिक्षक खान सर पर भी पटना पुलिस कार्रवाई कर सकती है।पुलिस का मानना है कि खान सर और बाकी कोचिंग संस्थान ने ही छात्रों को भड़काया है।इसलिए उन पर भी एफआईआर दर्ज करने की तैयारी की जा रही है।

    Advertisement
    Shruti Bhardwaj
    Journalist, who loves to write only Political news. Love Satire. Keen Observer and a good orator.

    संबंधित खबरें

    Conntect with Us

    898,779FansLike
    5,352FollowersFollow
    605,819SubscribersSubscribe
    - Advertisement -