Friday, July 1, 2022
More

    जेएनयू छात्रों ने उठाये नए वीसी के नियुक्ति पर सवाल, उनके विवादित ट्वीट्स हुए वायरल

    Santishree Dhulipudi Pandit

    लगातार देश के सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालयों में से एक जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी को पहली महिला कुलपति मिल गई हैं। प्रोफेसर शांतिश्री धूलिपूडी पंडित को जेएनयू का नया कुलपति नियुक्त किया गया है। प्रोफेसर पंडित इससे पहले सावित्रीबाई फुले पुणे यूनिवर्सिटी में राजनीति एवं लोक प्रशासन विभाग में प्रोफेसर थीं। अब प्रोफेसर पंडित जेएनयू में प्रोफेसर जगदीश कुमार की जगह अपना पदभार संभालेंगीl। प्रोफेसर पंडित जेएनयू से इटरनेशनल रिलेशंस मं 83.4 फीसदी का स्कोर हासिल करके टॉप किया था। उनके पास 34 साल का शिक्षण का अनुभव है। प्रोफेसर पंडित 1985-87 के बीच तमिलनाडु स्टूडेंट्स असोसिएशन की सचिव भी रही हैं।

    लेकिन गौर करने वाली बात यह है कि कही प्रोफेसर शांति श्री धूमल पंडित को मिलने वाली पोजीशन बीजेपी की तारीफ करने के इनाम के तौर पर तो मिली है। उनका एनडीए सरकार के लिए समर्थन और राइट विंग के प्रति लगाव हमेशा से ही साफ दिखता रहा है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के साथ नजदीकियां के लिए जानी जाने वाली पंडित ने हाल के दिनों में किसानों और छात्रों पर हुए हमले का खुलकर समर्थन किया था और इसे सही बताया था।

    उन्होंने अपने इंटरव्यू में टाइम्स नाउ के संपादक राहुल शिवशंकर की सवाल का जवाब देते हुए वामपंथियों को उदारवादी और कंगना रनौत के भड़काऊ ट्वीट जिसमें कंगना ने मुस्लिमों पर हुए हमले को सही बताया था , इस ट्वीट पर कंगना के अकाउंट को बंद किए जाने पर प्रोफेसर पंडित ने इसकी निंदा की थी।

    JNU VC Tweets

    एक और ट्वीट में, पंडित ने नागरिक अधिकार कार्यकर्ताओं के उत्पीड़न की भी वकालत की, जिन्हें वह “चीनी” शैली में “मानसिक रूप से बीमार जिहादी” के रूप में ब्रांड करती हैं। उन्होंने अपने पुराने ट्वीट में यह तक कह दिया थे कि वह बेशक ही राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की हत्या को दुखद मानती हैं लेकिन गोडसे की इस कार्रवाई को वो सही बताती हैं क्योंकि उनके अनुसार गांधी की हत्या ही भारत को ‘एकजुट भारत’ बना सकता था।

    JUN VC controversial

    कई मौकों पर, उन्होंने अपने हिंदुत्व दक्षिणपंथी राजनीतिक विचारों को बिना किसी हिचकिचाहट के खुले में रखा है। उदाहरण के तौर पर, उन्होंने सोनिया गांधी को”इटालियन रिमोट कंट्रोल” कहा था। कई अवसरों पर, उन्होंने जेएनयू के वामपंथी कार्यकर्ताओं को “नक्सल जिहादियों” कह कर भी उनपर तंज कसा था है और रोहिंग्या शरणार्थियों को बाहर निकालने की वकालत की है।

    सरकार से जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय और सेंट स्टीफेंस कॉलेज जैसे प्रतिष्ठित शैक्षणिक संस्थानों के वित्त कोष को रोकने के लिए कहा है। उसने “गैर-मुसलमानों” से “लव जिहाद” को रोकने के लिए जागने का भी आग्रह किया है, जिसे वह “एक तरीके के आतंक” बताती आई है।

    हाल ही में, उन्होंने आंदोलनकारी किसानों को “परजीवी, बिचौलिए, दलाल” कहकर किसानों के आंदोलन को और शाहीन बाग में सीएए विरोधी प्रदर्शनकारियों के लिए इसी तरह के अपशब्दों का इस्तेमाल किया।

    Newly appointed Vice Chancellor of JNU

    उसने अक्सर सोशल मीडिया पर ट्रोल हैंडल को रीट्वीट किया है, जिसका एक उदाहरण है जब उसने द वायर के वरिष्ठ संपादक आरफा खानम और प्रसिद्ध इतिहासकार ऑड्रे ट्रुश्के की एक तस्वीर को कैप्शन के साथ टैग किया, जिसमें लिखा था, “एक शिकारी के साथ गिद्ध”।

    JNU VC Twitter Account deactivated

    दूसरी ओर उनकी नियुक्ति के बाद छात्रों ने इन पुराने ट्वीट्स को भी सोशल मीडिया हैंडल पर फैलाना शुरू कर दिया है। छात्रों ने उनके पुराने ट्वीट्स को रिट्वीट्स करके उनकी नियुक्ति पर सवाल उठाना शुरू कर दिया है। जिसके बाद उन्होंने अपना ट्विटर हैंडल डीएक्टिवेट कर दिया है।

    उनके और कुछ विवादास्पद ट्वीट्स के स्क्रीनशॉट्स –

    New JNU VC Has Supported Genocide CallsJNU VC Hateful JNU VC Old Tweets JNU VC VC of JNU

    Advertisement
    Tannu Rai
    Learning journalism, blogs are all about my opinion and perspective on different topics. Mostly write about the on going events of politics, social and entertainment industry. Blogs are in very simple language nd topics are related common people. In entertainment field, love to write about their fashion, life ,style,diets,and professional work . Also write about social issues and development of society.

    संबंधित खबरें

    Conntect with Us

    898,779FansLike
    5,502FollowersFollow
    605,819SubscribersSubscribe
    - Advertisement -