Tuesday, July 5, 2022
More

    खान सर ने हाथ जोड़ कर की अपील, कहा प्रदर्शन में शामिल ना हों

    Khan Sir Appealपटना : 28 जनवरी को होने वाले बिहार बंद और और छात्र प्रदर्शन को रोकने के लिए “खान सर”ने शुक्रवार को देर रात एक वीडियो के ज़रिए बच्चों से अपील की है । उन्होंने सभी छात्रों से यह अपील की है कि छात्रों की सभी मांगे पूरी हो गई है तो अब वह किसी भी प्रदर्शन या आंदोलन का हिस्सा ना बने।

    आरआरबी एनटीपीसी की परीक्षा के रिजल्ट में धांधली का आरोप लगाकर बिहार में हो रहे प्रदर्शन थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। देश के अलग-अलग हिस्सों में छात्र बीआरबी के खिलाफ लगातार प्रदर्शन कर रहे है। प्रदर्शन इतना भयंकर हुआ कि आरा और गया में ट्रेनें तक फूंक दी गई।

    ऐसे में 28 जनवरी को होने वाले बिहार बंद और आंदोलन की और विकराल रूप लेने की आशंका को भांपते हुए पटना के खान सर ने शुक्रवार की रात को एक वीडियो के जरिए छात्रों से अपील की है कि BRB और पीएमओ (PMO) उनकी मांगों पर सुनवाई की है और आगे की की जा रही है। ऐसे में छात्र किसी भी आंदोलन का हिस्सा ना बने और किसी भी तरीके की उपद्रवी घटनाओं में हिस्सा न ले। अगर कोई भी छात्र ऐसा करता है तो ना खान सर और ना ही कोई और शिक्षक उसका समर्थन करेगा।

    खान सर अपने वीडियो में छात्रों से प्रदर्शन में शामिल न होने की अपील कर रहे हैं। उन्होंने कहा, ”देखिए सारे स्टूडेंट्स के लिए आवश्यक सूचना है। आपकी सारी मांगों को रखा गया है. हम आपकी सारी दुविधाओं को दूर करते हैं । 28 जनवरी को किसी भी तरह के विरोध प्रदर्शन में हिस्सा नहीं लीजिए, ये आपके लिए गलत साबित हो जाएगा । अभी वीडियो आया है बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी का, उन्होंने कहा, मैंने रेलमंत्री से बात की, वो स्टूडेंट्स की मांग पर सहमत हैं। ”

    खान सर ने बताया, ”रेल मंत्री भी इस बात से सहमत हैं कि 20 गुना ज्यादा रिजल्ट देंगे। नंबर रिपीट नहीं होंगे। 3.5 लाख बच्चों को और जोड़ा जाएगा। एनटीपीसी वालों की समस्या खत्म हो गई। ग्रुप डी वालों के सीबीडीटी 2 को अचानक जोड़ा गया था, उसे हटा दिया जाएगा। उन्होंने कहा, पीएम मोदी का भी इसमें दखल था, इसलिए आसानी से सहमति बन गई।”

    उन्होंने आगे कहा, गलती रेलमंत्री या पीएम की तरफ से नहीं थी। ये गलती आरआरबी की थी , आरआरबी भी कुछ चीजों से जूझ रही थी। उसे इतने बड़ा एग्जाम कराने के लिए कोई कंपनी जल्दी नहीं मिल रही थी। कुछ लोग कह रहे हैं कि कुछ राज्यों में चुनाव है, इसलिए ऐसा हो रहा है ये सब गलत है। ये किसी छात्र या टीचर का बयान नहीं है। ये राजनीतिक बयान है। रेलवे को इसलिए छात्रों की बात माननी होगी, क्योंकि यह संशोधन हुआ है और जो कमेटी बनाई गई है। यह आरआरबी का फैसला नहीं है। इसमें रेल मंत्रालय और पीएमओ शामिल है। ऐसे में छात्र कोई 28 जनवरी को प्रदर्शन में शामिल नहीं हो, जब छात्र प्रोटेस्ट करेगा, तो उसकी आड़ में अन्य लोग हिंसा और आगजनी करेंगे, जैसे आरा में ट्रेन जलाई गई।

    ऐसे में यह बेहद जरूरी है कि कोई भी छात्र किसी भी प्रदर्शन या उपद्रवी घटना का हिस्सा ना बने वरना यह छात्रों के लिए ही गलत साबित होगा।

    Advertisement
    Tannu Rai
    Learning journalism, blogs are all about my opinion and perspective on different topics. Mostly write about the on going events of politics, social and entertainment industry. Blogs are in very simple language nd topics are related common people. In entertainment field, love to write about their fashion, life ,style,diets,and professional work . Also write about social issues and development of society.

    संबंधित खबरें

    Conntect with Us

    898,779FansLike
    5,506FollowersFollow
    605,819SubscribersSubscribe
    - Advertisement -