Tuesday, July 5, 2022
More

    ‘पीएम ऐसे बर्ताव नहीं करते, ये कायरता है’- राहुल गांधी

    नई दिल्ली : आज राहुल गांधी ने एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस कर प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार पर जमकर निशाना साधा
    मुद्दा उठाया सिर्फ किसानों के परिवारों को मुआवज़े का और कायर, संवेदनहीन, अहंकारी जैसे शब्दों का इस्तेमाल किया

    जानिए क्या कहा राहुल गांधी ने

    ‘एक तरफ आप माफ़ी माँग रहे हो, दूसरी तरफ़ आप कह रहे हो 700 किसान तो हैं ही नहीं, लिस्ट पंजाब सरकार के पास है पीएम चाहें तो कॉल करके पूछ लें ये हैं कि नहीं, ‘Minimum Compensation is minimum respect for them’ यानी ‘न्यूनतम मुआवज़ा न्यूनतम सम्मान है

    Why doesn’t the PM have the dignity? What’s the problem in saying okay these many people have died due to the agitation against our law, so let’s compensate them, same with Covid deaths you don’t want to recognise them

    पीएम में कोई मान सम्मान क्यों नहीं है? ये कहने में क्या हर्ज है कि हमारे क़ानूनों की वजह से इतने किसानों की मौत हुई तो ठीक है हम उनके परिवारों को मुआवज़ा देंगे । यही इन्होंने कोविड से हुई मौतों के साथ किया था । आप मानना ही नहीं चाहते कि कोविड से मौतों हुईं

    ‘This is not the way a prime minister should behave, this is the most cowardly and immoral act’

    प्रधानमंत्री इस तरह से बर्ताव नहीं किया करते
    ये सबसे कायराना और अनैतिक हरकत है

    Why are you so insensitive about their pain? There is joblessness, you took away their livelihood for 1 year and now you want to say they don’t exist?

    लोगों का दर्द देखकर भी संवेदनहीन क्यों हैं आप? देश में बेरोज़गारी है , आपने एक साल इनके रोज़गार के अवसर छीन लिए और अब आप कहना चाहते हैं आप लोग हैं ही नहीं ?

    ‘जब भी गरीबों की बात उठती है तो आप कहते हो कि पैसा नहीं है और जब crony capitalists की बात होती है तो आपके पास पैसा है’

    ‘आपने माफ़ी माँगी तो आपने माफ़ी क्यों माँगी क्योंकि आपने माना कि आपने गलती की उस गलती की वजह से ही तो किसान बाहर निकले थे
    मौत हुई तो उसका मुआवज़ा देने की ज़िम्मेदारी आपकी हैं मान लें कि आप कहते हैं कि आपकी ज़िम्मेदारी नहीं है तो भी आपको देना चाहिए जैसे कि पंजाब सरकार ने दिया’

    ‘इनमें अहंकार है उन्हें लगता है वो सरकार में है तो उन्हें किसी की बात सुनने की ज़रूरत नहीं है अगर उनमें संवेदनशीलता होती और इन परिवारों के बच्चों के,उनके हेल्थकेयर के बारे में सोचते तो तुरंत कर देते पर उन्हें सिर्फ़ अपनी इमेज की चिंता है इसलिए नहीं कर रहे हैं’

    Advertisement

    संबंधित खबरें

    Conntect with Us

    898,779FansLike
    5,506FollowersFollow
    605,819SubscribersSubscribe
    - Advertisement -