Tuesday, July 5, 2022
More

    पश्चिम बंगाल में हिजाब रोकने पर छात्रों ने की तोड़फोड़, देश के अन्य राज्यों में भी जमकर हो रहा है विरोध प्रदर्शन

    hijab protest west bengal

    कर्नाटक से शुरू हुआ हिसाब से बाद अब देश के अलग-अलग राज्यों तक भी फैलना शुरू हो गया है। कर्नाटक हाईकोर्ट ने हिजाब विवाद पर सुनवाई को 28 फरवरी तक लंबित कर दिया है वहीं दूसरी ओर देश के अलग राज्यों में यह विवाद बेहद चिंताजनक रूप ले रहा है।

    इनमें उत्तरप्रदेश, पश्चिम बंगाल, दिल्‍ली, महाराष्‍ट्र और पुडुचेरी शामिल हैं। कर्नाटक की तरह इन राज्‍यों में भी मुस्लिम लड़कियां क्‍लास में हिजाब पहनने की मांग कर रही हैं। कई राज्‍यों में इसके पक्ष में जोरदार प्रदर्शन हुए हैं। इसने राज्‍यों में अलग तरह की चुनौतियां पैदा कर दी हैं। सभी राज्यों में हिसाब पर तनावपूर्ण स्थिति बनी हुई है।

    यह विवाद पश्चिम बंगाल में पहुंच गया है। शनिवार को हिजाब पर प्रतिबंध के खिलाफ और हिजाब के समर्थन में छात्राओं ने प्रदर्शन किया। इसी दौरान बंगाल में एक मामला सामने आया, जिसमें मुर्शिदाबाद के बहुताली में रहने वाली छात्रा हिजाब और बुर्का पहनकर स्कूल पहुंची थी। इस दौरान स्कूल के टीचर ने छात्रा से कहा कि वो हिजाब और बुर्का पहनकर स्कूल नहीं आ सकती है। इस बात से नाराज होकर दंगाइयों ने स्कूल में तोड़फोड़ और पत्थरबाजी की।

    pro hijab protest west bengal

    छात्रा को जब हिजाब और बुर्के के लिए मना किया गया तो उनके परिजन स्थानीय लोगों के साथ स्कूल पहुंच गए और जमकर तोड़फोड़ की और स्कूल में तोड़फोड़ और हंगामे की खबर मिलने के बाद भारी संख्या में पुलिस बल मौके पर पहुंचा।

    स्थानीय लोगों और छात्रों का प्रदर्शन के कारण स्थितियां इतनी खराब हो गई कि पुलिस को छात्रों के प्रदर्शन को रोकने के लिए आशिक बम का इस्तेमाल करना पड़ा। काफी मशक्कत के बाद पुलिस हालात पर काबू कर पाई। फिलहाल, मामले में अबतक कई लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।

    वहीं दूसरी और उत्तर प्रदेश में हिजाब विवाद यूपी के विधानसभा चुनाव का मुद्दा बन चुका है। एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने सम्‍भल में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए उन्‍होंने हाल में कहा था कि बीजेपी हमारी बेटियों को हिजाब नहीं पहनने दे रही है। उन्‍हें पढ़ने नहीं दिया जा रहा है। यह और बात है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुस्लिम महिलाओं के सशक्‍तीकरण की बात कर रहे हैं। क्‍या यही ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ कैंपेन है।

    इस विवाद की लहरें राजधानी दिल्ली तक भी आ चुकी है। वकीलों के संगठन ऑल इंडिया लॉयर्स एसोसिएशन फॉर जस्टिस ने दिल्‍ली स्थित कर्नाटक भवन के बाहर गुरुवार को प्रदर्शन किया था। लेफ्ट विंग स्‍टूडेंट ऑर्गनाइजेशन ऑल इंडिया स्‍टूडेंट्स यूनियन ने भी कर्नाटक भवन के सामने प्रदर्शन किया। संगठन के कई कार्यकर्ताओं को दिल्‍ली पुलिस ने हिरासत में लिया। कई मस्लिम महिलाओं ने शाहीन बाग में शिक्षण संस्‍थानों में हिजाब पहनने के पक्ष में प्रदर्शन में हिस्‍सा लिया।

    इसके अलग-अलग राज्यों के अलग-अलग क्षेत्रों में छात्रों ने इसके समर्थन और विरोध दोनों में ही प्रदर्शन कर रहे हैं। वहीं दूसरी और कर्नाटका हाई कोर्ट इस विवाद पर सुनवाई तारीख को 28 फरवरी तक लंबित कर दिया है।

    Advertisement
    Tannu Rai
    Learning journalism, blogs are all about my opinion and perspective on different topics. Mostly write about the on going events of politics, social and entertainment industry. Blogs are in very simple language nd topics are related common people. In entertainment field, love to write about their fashion, life ,style,diets,and professional work . Also write about social issues and development of society.

    संबंधित खबरें

    Conntect with Us

    898,779FansLike
    5,506FollowersFollow
    605,819SubscribersSubscribe
    - Advertisement -