Saturday, May 21, 2022
More

    प्रयागराज: अखिलेश के समर्थन में उमड़ा जन सैलाब, बदलाव की उम्मीद लगाए रोड शो में पहुंचे लोग

    लोगों का महासागर था, जिसमे अखिलेश यादव का रथ एक नाव की तरह तैर रहा था, उस समुद्र में सिर्फ सपा की आस्मां नापती हुई लहरें नज़र आ रहीं थी। तो ऐसा ही कुछ नज़ारा था प्रयागराज के रामबाग में अखिलेश की रैली का, ऐसा कहा जाता है की जिस पार्टी ने प्रयागराज में जीत हासिल करली, वही पार्टी उत्तर प्रदेश पर राज करेगी। 24 फरवरी को अखिलेश ने पहले रामबाग में सेवा समिति मंदिर में लोगों को अपने रथ की छत्त से सम्बोधित किया, उसके बाद वही से उनका लीडर प्रेस मैदान तक रोडशो प्रारंभ हुआ।

    आपको बता दें की प्रयागराज में कुल 12 विधानसभा सीटें हैं, जिसमे से पिछली बार 8 भाजपा जीती थी, 2 बसपा के हिस्से में थी, एक समाजवादी पार्टी के और एक सीट अपना दल के हिस्से आई थी।

    देखने वाली बात तो ये थी की अखिलेश यादव के रोडशो के पहले पड़ाव से आखरी पड़ाव तक लोगों का जोश निरंतर बरक़रार था। ये रोडशो करीब साढ़े तीन किलोमीटर लम्बा चला, लेकिन उन लोगों को देखकर तो ऐसा ही लगा कि रोड शो साढ़े तीन किलोमीटर की जगह अगर 15 किलोमीटर लम्बा भी होता तो वो लोग अखिलेश के रथ संग उतनी ही तेज़ी से दौड़ लगाते। लोगों को मोह साफ़ था, वो केवल अखिलेश की एक झलक पाना चाहते थे, कई उनसे हाथ मिलाना चाहते थे। उन्हें देख ये ही अंदाजा हुआ की कई तो देखना चाहते थे कि जिसे हम उत्तरप्रदेश की मुख्यमंत्री कुर्सी पर बिठाना चाहते हैं क्या वो असल में भी वैसे दिखते हैं जैसे टीवी पर दिखाई देतें हैं?

    तय कार्यक्रम के अनुसार बीच बीच में अखिलेश रुकते, रथ के ऊपर जाते और लोगों से बात करते, उन्हें सम्बोधित करते, साथ ही योगी पर व्यंग कस्ते। लोगों से सवाल करते कि, “महंगाई बढ़ी या नहीं बढ़ी ? बेरोज़गारी बढ़ी या नहीं बढ़ी?” जवाब में सभी लोग सर हिलाकर हामी भरते।

    हम जब भी प्रयागराज में लोगों से बात करने निकले तो रोज़गार न मिलने पर और महंगाई ऊंचाइयां छुने पर सिर्फ समाजवादी पार्टी की समर्थकों ने ही नहीं बल्कि कुछ भाजपा समर्थकों ने भी इस बात को माना। लेकिन नोट करने वाली बात तो ये है की बेरोज़गार युवाओं की संख्या हमें पुरे यूपी में ही ज्यादा देखने को मिली।

    असल में बहुत से लोग बेरोज़गारी और महंगाई के मुद्दे पर अखिलेश से उम्मीद लगाए बैठे हैं। उनके हिसाब से भाजपा सरकार पिछले बार उनकी समस्याओं का हल नहीं निकाल पायी तो अब वो अखिलेश को मुख्यमंत्री के रूप में देखना चाहते हैं। अखिलेश ने इस बात का ज़िक्र भी किया, उन्होंने कहा की 11 लाख सरकारी भर्तियां थी जो अब तक योगी राज में खाली हैं। समाजवादी सरकार आने के बाद उन्हें जल्द से जल्द भरा जाएगा और युवाओं को रोज़गार मुहैया कराया जाएगा।

    लोगों को यकीन है की अखिलेश की समाजवादी सरकार उनके परेशानियों का समाधान निकालने में सफल रहेगी, युवाओं ने शुरू से अंत तक अखिलेश के रोड शो में उनका साथ दिया। लोग सिर्फ अखिलेश की प्रति अपना प्रेम भाव ज़ाहिर करना चाहते थे, उसके लिए कुछ लोग उनके लिए गदा लाये जो बल का प्रतीक है, तो कोई छोटी सी साइकिल। कई तो कृष्ण राधा की तस्वीर भी लाये, उनके और उनकी धर्मपत्नी डिंपल यादव के लिए, अखिलेश ने बार बार रथ रुकवा कर खिड़की खोलकर लोगों के प्यार को स्वीकार किया।

    दिल को छू जाने वाली बात तो ये थी की पुरे रोडशो के दौरान जब भी अखिलेश ने महिलाओं को उस भीषण भीड़ में उलझे हुए देखा तो फ़ौरन अपने कर्मचारियों से कहकर उन्हें अपने रथ में बिठवाया, उन्हें पानी भी पिलवाया। यही सब छोटी छोटी चीज़ें तो एक राजनेता को लोगों के दिल में बसा देतीं हैं, और यही सब देखकर लोग अखिलेश का समर्थन करना चाहते हैं। वो अपने नेता का सिर्फ चुनावी स्वभाव ही नहीं बल्कि ये भी देखते हैं की चुनाव के अलावा उनका नेता कैसा है, ये भी बहुत एहम चीज़ होती है जिसे देखकर लोग अपना वोट तय करते हैं।

    अखिलेश के इस रोड शो में लोगों का अखिलेश के प्रति लगाव और समर्थन साफ़ नज़र आ रहा था, और लोगों की ऐसी तादाद देखकर जो ख़त्म ही नहीं हो रही थी, तो ऐसा लगता है की अखिलेश यादव चुनावी मैदान में इस बार मुख्यमंत्री पद के प्रबल दावेदार हैं।

    इस बार के चुनावी परिणाम तो काफी दिलचस्प होंगे, बाकी तो प्रयागराज के लोगों का किस पार्टी के प्रति क्या रुख रहा ये तो 10 मार्च को ही पता चलेगा।

    Advertisement
    Ananya Gupta
    An enthusiastic take at life type of Individual, love talking to people and learning from them, Journalist, Citizen of the county first above everything.

    संबंधित खबरें

    Conntect with Us

    898,779FansLike
    5,044FollowersFollow
    605,819SubscribersSubscribe
    - Advertisement -